रविवार, 3 जून 2018

प्राचीन नाभी चिकित्‍सा


                   
प्राचीन नाभी चिकित्‍सा
  नाभी चिकित्‍सा का उल्‍लेख विश्‍व की कई वैकल्‍पिक चिकित्‍सा पद्धतियों एंव कई परम्‍परागत उपचार विधियों में देखने को मिल जाती है ,परन्‍तु इस सरल सुलभ उपचार विधि के परिणामों से जन समान्‍य अनभिज्ञ है इसका मूल कारण यह है कि इस चिकित्‍सा पद्धति के जानकारो ने इस धन व यश कमाने के लिये अपने तक ही सीमित रखा, उनके बाद यह पद्धति धीरे धीरे उनके साथ लुप्‍त होती गयी । नाभी चिकित्‍सा या उपचार पद्धति के लुप्‍त होने के पीछे आधुनिक चिकित्‍सा विज्ञान का भी बहुत बडा हाथ है, जिन्‍होने इस प्रकृतिक उपचार विधि को अवैज्ञानिक एंव तर्कहीन कह कर, इसकी उपेक्षा ही नही की बल्‍की इसके विकास क्रम को ही अवरूध कर दिया , इसके पीछे मुख्‍य धारा से जुडी चिकित्‍सा पद्धतियों का व्‍यवसायीक दृष्‍टीकोण प्रबल था, जो इस जैसी सरल सुलभ तथा आशानुरूप परिणाम देने वाली उपचार विधि को हासिये में ला खडा कर दिया । चिकित्‍सा जैसा पुनित कार्य  व्‍यवसायीक प्रतिस्‍पृधा के भॅवरजाल में ऐसा फॅसता चला गया कि सस्‍ती सुलभ प्रकृतिक उपचार विधियॉ धीरे धीरे लुप्‍त होती चली गयी । इसीका परिणाम है कि आज नाभी उपचार जैसी सरल सुलभ तथा आशानुरूप परिणाम देने वाली उपचार विधियों से जन सामान्‍य अपरिचित है । विश्‍व के हर कोने में नाभी चिकित्‍सा, उपचार विधि किसी न किसी नामों से अभी भी प्रचलन में है एंव अपने आशानुरूप परिणामों की वजह से एंव मुख्‍य धारा कि चिकित्‍सा पद्धतियों के विरोध के बाबजूद अपना अस्‍तीत्‍व बनाये हुऐ है । नाभी चिकित्‍सा का उल्‍लेख हमारे  प्राचीन आयुर्वेद चिकित्‍सा पद्धति में देखा जा सकता है समुद्रशास्‍त्र एंव ज्‍योतिष विद्याओं में भी नाभी उपचार का उल्‍लेख है । अत: हम कह सकते है कि नाभी चिकित्‍सा हमारे भारतवर्ष की अमूल्‍य घरोहर है , जिसे हम न सम्‍हाल सके , सम्‍हालना तो दूर की बात है हमारा पढा‍ लिखा सभ्‍य समाज इसकी उपेक्षा करते न थकता था, वही बौद्ध भिक्षुओं ने हमारी इस उपचार विधि के महत्‍व को समक्षा एंव इसे अपने साथ चीन व जापान ले गये, जहॉ यह एक नई उपचार विधि, ची नी शॉग के नाम से चीन व जापान मे प्रचलित हुई । एक्‍युपंचर एंव एक्‍युप्रेशर उपचार विधियों के चिकित्‍सकों ने इसे एक नये उपचार विधि के रूप में प्रस्‍तुत किया, अत: कहने का तात्‍पर्य, मात्र इतना है, कि नाभी चिकित्‍सा विश्‍व की वैकल्पिक चिकित्‍सा पद्धतियों में किसी न किसी रूप में प्रयोग की जा रही है एंव इसके बडे ही अच्‍छे आशानुरूप परिणाम मिल रहे है । नाभी चिकित्‍सा के इतिहास को दोहराने की अपेक्षा इसके उपचार महत्‍व पर प्रकाश डालना उचित होगा ताकि जन सामान्‍य इस उपचार विधि का स्‍वयम उपयोग कर इसके परिणामों से परिचित हो सके ।
  जो सरलता से उपलब्‍ध हो जाये , उसका महत्‍व नही होता , परन्‍तु वही काफी मुश्किलों से प्राप्‍त हो तो उसका महत्‍व बढ जाता है । यदि आप से कहॉ जाये कि किसी बीमारी में बिना पैसों के उपचार हो सकता है तो आप को विश्‍वास नही होगा । आप ऐसे बिना खचों के उपचार की बातों में ही नही आयेगे, नाभी उपचार भी इसी प्रकार की चिकित्‍सा है जिसमें बिना किसी खर्च के असाध्‍य से असाध्‍य बीमारीयों का उपचार आसानी से किया जा सकता है यहॉ पर एक छोटा सा उदाहरण, मै देना चाहूंगा ,एक युवा महिला जो हमारे पडौस में रहती थी उसकी नई नई शादी हुई थी वह पेट की बीमारीयों से काफी परेशान थी ,कई जगह उसने अपना उपचार कराया बडे से बडे डॉक्‍टरों को दिखलाया परन्‍तु कुछ भी लाभ न हुआ ,एलोपैथिक से लेकर आयुर्वेदिक ,होम्‍योपैथिक ,यूनानी आदि कई चिकित्‍सकों का उपचार करा चुकी थी उसे किसी प्रकार लाभ नही हो रहा था इस दरबयान उसने मुक्षे भी विभिन्‍न चिकित्‍सकों के उपचार के परचे बतलाये , मैने उसे होम्‍योपैथिक की दबाये लिखी ,परन्‍तु उसने पहले होम्‍योपैथिक से उपचार करा लिया था इसलिये उसने मेरी दवाये न ली । इसी मध्‍य उसकी सासु मॉ उनके यहॉ आई जो नाभी को यथास्‍थान लाना जानती थी उसने अपने लडके से कहॉ अरे तुम जानते थे कि मै पेट सुधारना जानती हूं फिर तुमने मुक्षे क्‍यो नही बतलाया, लडका हॅसा और कहने लगा मॉ ये तुम्‍हारी समक्ष से बाहर है बडे बडे डाक्‍टरो तक की समक्ष में नही आया फिर तुम क्‍या करोगी । उसकी मॉ ने बहुं से कहॉ बेटा तुम इसकी बातों में न आओं । अब मरता क्‍या न करता, बहुं ने सोचा कि इस बिना पैसों के उपचार कराने में हर्ज ही क्‍या है । उसकी सासू मॉ ने पेट का परिक्षण किया उसने बतलाया कि बेटी तुम्‍हारी नाभी टली हुई है उसने उसके पेट का मिसाज कर नाभी को यथास्‍थान बैठाया फिर एक जलता हुआ दिया नाभी पर रख उस पर लोटा रखा । इससे उसकी नाभी यथास्‍थान बैठ गयी उसके पेट का र्दद पूरी तरह से चला गया । कई दिनों बाद जब मेरी पत्‍नी ने उससे उसकी बीमारी के बारे मे पूछा तो उसने बतलाया कि उसकी बीमारी उसी दिन से ठीक हो गयी जब से सासु मॉ ने नाभी को बिठा दिया था । अब आप ही बतलाईये इतने बडे बडे डॉ0 के उपचार से जो ठीक ना हो सकी वह इस छोटे से बिना पैसों के उपचार से पूरी तरह से ठीक हो गयी ।
उपचार :- नाभी चिकित्‍सा में सर्वप्रथम रोगी के नाभी का परिक्षण किया जाता है ,जिस प्रकार से हमारी हाथों की नाडीयॉ चलती (धडकती) है उसी प्रकार से हमारे, नाभी की नाडीयॉ चलती है , नाभी पर तीन अंगुलियॉ रख कर परिक्षण करने पर यदि यह नाडी नाभी के बीचों बीच धडक रही है तो रोगी स्‍वस्‍थ्‍य व दीर्ध जीवी होता है, परन्‍तु यदि यही धडकन ऊपर या नीचे या नाभी वृत के आजू बाजू है तो ऐसी स्थिति में रोगी को वही रोग होगा जिस तरफ नाभी नाडी की धडकन होगी । इस धडकन का अनुमान इस प्रकार किया जाता है, हमारे पेट के अंतरिक अंग जिस तरफ पाये जाते है उसे उसका प्रतिनिध क्षेत्र कहते है । एंव नाभी की धडकन जिस तरफ होती है उसी अंग में बीमारीयॉ होती है , नाभी धारीयों एंव उसकी बनावट से भी रोग की स्थिति को पहचाना जाता है । इसके बाद शरीर की अम्‍लता एंव क्षारीयता का परिक्षण नाभी पर हल्‍दी के पावडर को डालकर या लिटमस पेपर से किया जाता है इस परिक्षण में यदि नाभी गहरी है तो उसकी नाभी पर पानी मे हल्‍दी को घोल कर डालने पर यदि हल्‍दी का रंग लाल हो जाये तो समक्षों अम्‍ल की मात्रा शरीर में अधिक है एंव ऐसी स्थिति में रोगी को अम्‍ल से सम्‍बधित अनेक प्रकार की व्‍याधियॉ हो सकती है यहॉ तक की कैंसर होने की संभावना बढ जाती है यदि इसका रंग नीले रंग का हो जाता है तो समक्षे शरीर रसों में क्षारीयता है क्षारीय होना अच्‍छी बात है एंव व्‍यक्ति के स्‍वस्‍थ्‍यता का सूचक है शरीरिक रसो का क्षारीय होने से कई रोगों का निदान स्‍वयम हो जाता है । आज की जीवन शैली एंव खानपान की वजह से मनुष्‍य के शरीर में अम्‍ल की मात्रा बढ रही है जो बीमारीयों का मूल कारण है इस उपचार विधि में इस अम्‍लीय एंव क्षारीयता रस समायोजन के सूत्र का पालन रोग निदान हेतु किया जाता है ।
नाभी चिकित्‍सा का मूल सिद्धन्‍त है शारीरिक रस रसायनों की समानता एंव नाभी टलने पर उसे यथास्‍थान बैठालना ।

   आज चिकित्‍सा जैसा पुनित कार्य एक व्‍यवसाय बन चुका है, छोटी से छोटी बीमारीयों के उपचार हेतु मुख्‍यधारा से जुडे चिकित्‍सक बडे से बडा परिक्षण लैब टेस्‍ट कराते है हजारो रूपये खर्च होने के बाद दवाये लिखी जाती है या उपचार शुरू होता है । जितनी बडी अस्‍पताल या जितना बडा डॉ0 उतना खर्च । मरीज भी चिकित्‍सा एंव उपचार के भंवरजाल में इस तरह से उलझ जाता है कि उसे भी कुछ समक्ष में नही आता ।
                   नाभी परिक्षण से रोग की पहचान
नाभी चिकित्‍सा पद्धति एक सरल, सुलभ उपचार विधि है , जिस प्रकार  आज मुख्‍यधारों से जुडी चिकित्‍सा पद्धतियॉ या अन्‍य चिकित्‍सा विधियॉ रोग निदान से पूर्व रोग की पहचान करने हेतु कई प्रकार की विधियॉ अपनाती है जैसे पैथालाजी ,एक्‍सरे ,सोनोग्राफी आदि इससे शरीर में कौन सा रोग है यह मालुम हो जाता है । आयुर्वेद जैसी प्राचीन चिकित्‍सा में नाडी परिक्षण आदि से रोग की पहचान की जाती है, होम्‍योपैथिक उपचार में लक्षणों के आधार पर रोग की स्थिति को पहचान कर उपचार किया जाता है । ठीक इसी प्रकार नाभी चिकित्‍सा में भी उपचार से पूर्व शरीर के किस अंग में खराबी है या कौन सा रोग है पहचाना जाता है  नाभी चिकित्‍सकों का मानना है कि समस्‍त प्रकार की बीमारी पेट से प्रारम्‍भ होती है उनका सिद्धान्‍त है कि रस एंव रसायनों की असमानता से समस्‍त प्रकार के रोग उत्‍पन्‍न होते है !
 1-रस :- प्राणी जीवन का आधार ही रस है, यानी हमारे शरीर में जो भी तरल रूप मे है चाहे वह पाचन क्रिया उत्‍पन्‍न होने वाले रस, विटामिन, एमिनो एसिड, या फिर विभिन्‍न प्रकार के रसायनिक घटक ही क्‍यो न हो, प्रथमावस्‍था में ये सभी रस की श्रेणी में ही आते है, फिर सम्‍बन्धित अंगों के माध्‍यम से रक्‍त व  हार्मोन में परिवर्तित होते है जो रस की , द्वितिय अवस्‍था में रसायनिक घटक में परिवर्तिन होते है ।
2-रसायन :- हम जो कुछ गृहण करते है वह पहले रस में परिवर्तित होता है इसके बाद रसायनिक घटकों में रसायनिक प्रक्रिया द्वारा परिवर्तित होता है, इसे रसायन कहते है । हार्मोन्‍स हो या रक्‍त में मिश्रित सभी प्रकार के तत्‍व रसायनिक प्रक्रिया के माध्‍यम से ही परिवर्तित होते है ।
  अत: नाभी चि‍कित्‍स का मूल सिद्धान्‍त है कि प्राणीयों की समस्‍त प्रकार की बीमारीयॉ रस रसायनों की असमानता की वजह से उत्‍पन्‍न होती है । इस चिकित्‍सा विधि में उपचारकर्ता सर्वप्रथम रस एंव रसायनों को समान्‍यावस्‍था में लाने का प्रयास करता है । उनका मानना है कि रस एंव रसायनों के साम्‍यावस्‍था में आते ही समस्‍त प्रकार की बीमारीयों का निदान बिना किसी दबा दारू के हो जाता है ।
परन्‍तु हमारे शरीर के रस रसायनों के परिवर्तन व प्रतिक्रिया के परिणाम स्‍वरूप जो तत्‍व पसीने आदि के माध्‍यम से शरीर से निकलते रहते है वह नाभी के गहरे भाग में धीरे धीरे जमने लगते है जो मैल की परत के रूप में देखे जा सकते है इसमें एक विशिष्‍ट प्रकार की गंध पाई जाती है यह गंध शरीर के रस रसायनों की विकृति को दृशाती है शरीर में अम्‍लता एंव क्षारीयता को इसकी गंध से आसानी से पहचाना जाता है चूंकि शरीर में रस रसायन के परिवर्तन एंव अम्‍लीयता तथा क्षारीयता के स्‍तर की असमानता से कई प्रकार की बीमारीयों का जन्‍म होता है । अम्‍ल एंव क्षार का पी एच-7 होने पर शारीर का रसायनिक संतुलन सही होता है ,पीएच-7 से अधिक होने पर क्षारीय एंव कम होने पर अम्‍बली होता है  ]
 इसके घटने या बढने पर शरीर क्षारीय या अम्‍बलीय होने लगता है अम्‍ल व क्षार की अधिकता या कमी का परिणाम शारीरिक रसायनिक घटकों में असमानता उत्‍पन्‍न तो करती ही है साथ ही अम्‍बली या क्षारीय माध्‍यमों में होने वाले वैक्‍टरियॉ उत्‍पन्‍न होने लगते है इससे वेक्‍टेरियाजनित बीमारीयों की संभावनाये बढ जाती है । क्षय रोग अम्‍लीय रोग फेफडों के रोग व कैसर जैसी बीमारीयों में शारीर में अम्‍ल का स्‍तर बढ जाता है इससे नाभी मे जो गंध होती है अम्‍बलीय या खटटी ,इसके मैल की परत को निकाल कर उसे साफ पानी में घोलकर लिटमस पेपर पर डालने पर लिटमस पेपर का रंग नीला हो जाता है । क्षार के स्‍तर के अधिक बढने पर  कडुवी सी गंध आती है तथा इसकी परत का परिक्षण करने पर लिटमस पेपर लाल हो जाता है । जानकार नाभी चिकित्‍सक नाभी पर पाये जाने वाले इस मैल का परिक्षण विभिन्‍न विधियों से कर बीमारी का पता आसानी से लगा लेते है ।  जैसे यदि नाभी धारी के मध्‍य पीला रंग है तो उसे पित्‍त से सम्‍बन्धित बीमारीयॉ या फिर पीलियॉ जैसा रोग होगा , ठीक इसी प्रकार यदि नाभी धारीयों का रंग अत्‍यन्‍त लाल है तो उसे रक्‍त विकार की शिकायत हो सकती है । नाभी धारीयों के मध्‍य सफेद रग का होना वात रोग या नसों से सम्‍बन्धित बीमारीयों का दृशाता है । नाभी में खटटी गंध आने पर रोगी अपच तथा अम्‍ल्‍ा रोग का शिकार होता है ।
 अम्‍ल क्षार  का संतुलन बिगडना :- इस चिकित्‍सा पद्धति का माना है कि शरीर में समस्‍त प्रकार की बीमारीयों का उत्‍पन्‍न होना अम्‍ल क्षार के संतुलन की असमानता है हमारे शरीर में दो तरह के तत्‍व होते है एक अम्‍ल दुसरा क्षारीय । यदि इन दोनो का संतुलन बिगड जाये तो हमारे शरीर मे रोग उत्‍पन्‍न होने लगता है शरीर में अम्‍ल का अधिक होना घातक है    शरीर में अम्‍ल की मात्रा अधिक होने पर कई प्रकार की बीमारीयॉ उत्‍पन्‍न जैसे शरीर में र्दद रहना ,पित्‍त का बढना ,बुखार आना ,चिडचिडाहट , रोग प्रतिरोधक क्षमता का कम हो जाना ,कैसर जैसी घातक बीमारीयों का मुख्‍य कारण शरीर में अम्‍लीयता का बढना है ।
अम्‍ल :- अम्‍ल (एसिड) को मोटे हिसाब निम्‍न प्रकार से पहचान सकते है ये स्‍वाद में खटटे होते है एंव हल्‍दी से बनी रोली को नीला कर देती है । अधिकाश धातुओं पर अभिक्रिया कर हाईड्रोजन गैस उत्‍पन्‍न करती है तथा क्षार को उदासीन कर देती है ।
क्षार:- क्षार (एलकलाईन) उन पदाथों को कहते है जिनका विलयन चिकना चिकना होता है तथा ये स्‍वाद में कडुवे होते है ,हल्‍दी से बने रोली को लाल कर देते है और अम्‍लों को उदासीन कर देते है । हमारे शरीर में भी दो तरह के तत्‍व होते है अम्‍ल हाईडोजन आयन को शरीर में बढादेता है क्षारीय भोजन हाइडोजन आयन को कम कर देता है जो शरीर के लिये लाभदायक है ।
पी एच-7 :-  अम्ल एवं क्षार की मात्रा को नापने के लिए एक पैमाना तय किया है जिसे पीएच कहते हैं । किसी पदार्थ मंे अम्ल या क्षार के स्तर को की मानक ईकाइ पीएच है । पीएच को मान 7 से अधिक अर्थात वस्तु क्षारीय है । शुद्ध पानी का पीएच 7 होता है । पीएच बराबर होने पर पाचन व अन्य क्रियाएं सुचारू रूप से होती है । तभी हमारे शरीर की उपापचय क्रिया सही होती है एवं हारमोन्स सही कार्य कर पाते हैं एवं उनका सही स्त्राव होता है । तभी शरीर की प्रतिरोध क्षमता बढ़ती है ।
बढ़ता प्रदूषण, रसायनों का सेवन व तनाव से शरीर में अम्लता की मात्रा बढ़ती है । तभी आजकल रक्त मे पीएच 7.4 से कम हो गया है । 7.4 आदर्श पीएच माना जाता है । इससे उपर पीएच का बढ़ना क्षारीय व इसका 7.4 से कम होना एसीडीक होना बताता है। आजकल हमारा रक्त का पीएच 6 या 6.5 रहता है । इसी से कैंसर जैसी घातक बीमारियां होती है । शरीर की प्रतिरोधक क्षमता भी कम हो गई है । शरीर में दर्द इसी से रहता है । पित्त का बढ़ना, बुखार आना, चिढ़ना सब अम्लता बढ़ने से होता है ।
निम्बू, अंगुर आदि फल खट्टे होते हैं लेकिन पाचन पर ये क्षारीय प्रभाव उत्पन्न करते हैं । इनके अन्तर स्वभाव से नही बल्कि पचने पर जो प्रभाव होता है उसके
 कारण क्षारीय माना जाता है । पाचन पर जो खनिज तत्व बनाते हैं व सब क्षारीय होते हैं ।
अम्लीय आहार – मनुष्य द्वारा निर्मित आहार प्रायः अम्लीय होता है जिससे एसीडिटी होती है । जैसे तले-भूने पदार्थ, दाल, चावल, कचैरी, सेव, नमकीन, चाय, काॅफी, शराब, तंबाकु, डेयरी उत्पाद, प्रसंस्कृत भोजन, मांस, चीनी, मिठाईयां, नमक, चासनी युक्त फल, गर्म दूध आदि के सेवन से अम्लता बढ़ती है ।
क्षारीय आहार  प्रकृति द्वारा प्रदत आहार (अपक्वाहार) प्रायः क्षारीय प्रभाव उत्पन्न करते हैं । जैसे ताजे फल, सब्जियां, अंकुरित अनाज, पानी में भीगे किशमिश, अंजीर, धारोष्ण दूध, फलियां, छाछ, नारियल, खजूर तरकारी, सुखे मेवे, आदि पाचन पर क्षारीय हैं ।ज्वारे का रस क्षारीय होता है । यह हमारे शरीर को एल्कलाइन बनाता है । शरीर के द्रव्यों को क्षारीय बनाता है । खाने का सोड़ा क्षारीय बनाता है ।
बीमारीयों की पहचान:- नाभी चिकित्‍सा में बीमारीयों को पहचानने की कई विधियॉ प्रचलन में है परन्‍तु मुख्‍य रूप से निम्‍न परिक्षण मूल रूप से किये जाते है । 
1- स्‍पर्श परिक्षण :- इस में मरीज के शरीर का स्‍पर्श परिक्षण किया जाता है जिससे शरीर का तापक्रम मालुम होता है , नाडी परिक्षण , दृष्टि परिक्षण मरीज को देखकर ,ऑखों का परिक्षण , जीभ तथा मल मूत्र का परिक्षण जो सामान्‍यत: उनके रंग गंध आदि से पहचाना जाता है । 
2- नाभी परिक्षण :- नाभी चिकित्‍सा में रोग को पहचान ने के लिये मूल परिक्षण है, नाभी परिक्षण, चूंकि नाभि चिकित्‍सकों का मानना है कि मनुष्‍य के समस्‍त प्रकार के रोगों का परिक्षण मात्र नाभी की बनावट उसकी धारीयों एंव नाभी स्‍पंदन से आसानी से पहचाना जा सकता है ।
नाभी चिकित्‍सा में सर्वप्रथम नाभी की बनावट उसके आकार प्रकार  एंव उसकी स्थिति से रोग की पहचान की जाती है ।
3-अम्‍ल क्षार परिक्षण :- इस परिक्षण से यह ज्ञात हो जाता है कि रोगी के शरीर में अम्‍ल व क्षारीयता की क्‍या स्थिति है जो रोग का मूल कारण है । यह परिक्षण उन रोगीयों पर ही किया जा सकता है जिसकी नाभी गहरी होती है एंव उसके अन्‍दर मैल की परत हो तथा उसमें से गंध आती हो । इसका मूल कारण यह है कि हमारे शरीर से निकलने वाले पसीन से शरीर के वे तत्‍व रस या रसायन की मात्राये निरंतर निकलती रहती है चूंकि शरीर में नाभी मात्र एक ऐसा अंग है जहॉ पर पसीना असानी से रूक जाता है एंव सूखने पर वह मैल की परत के रूप में शरीर से चिपका रहता है ,शरीर के तापक्रम एंव निरंतर सम्‍पर्क की वहज से जो तत्‍व शरीर से निकलते रहते है वह उचित परिणाम में सुरक्षित रहते है इससे कभी कभी नाभी में वैक्‍टेरिया भी पलने लगते है ये वेक्‍टेरिया शरीर को किसी भी प्रकार का नुकसान नही पहूचाते बल्‍की शरीर की सुरक्षा करते है इस मैल से एंव वैक्‍टेरिया से शरीर की अम्‍ल एंव क्षारीयता की स्‍थिति का अनुमान आसानी से लगाया जा सकता है जैसे गंध से यदि गंध खटटी है तो अम्‍ल एंव यदि गंध कडुवी या कसैली है तो क्षारीय ।
लिटमस या हल्‍दी परिक्षण :- गहरी नाभी के मरीज की अम्‍ल क्षारीयता का पता लगाने के लिये उसकी नाभी पर पहले शुद्ध पानी डाले फिर उसके अंदर के मैल को किसी साफ वस्‍तु से इस प्रकार धोले ता‍कि अन्‍दर के मैल की परत उसमे अच्‍छी तरह से धुल जाये इसके बाद उसके अन्‍दर हल्‍दी से बनी रोली डाल दे यदि वह लाल हो जाये तो समक्षे शरीर क्षारीय है एंव यदि वह पीली हो जाये तो समक्षे शरीर में अम्‍ल की मात्रा बढ रही है जो घातक है ।
हल्‍दी की रोली की जगह आप चाहे तो लिटमस पेपर को डाल कर भी यह परिक्षण आसानी से कर सकते है ।
पर हल्‍दी शरीर से निकलने वाले इस तत्‍व में अम्‍ल व क्षार यह सूखा हुआ को कर
(अ):- नाभी की स्थिति :-यदि नाभी की स्थिति शरीर के मध्‍य में है तो ऐसा व्‍यक्ति निरोगी होता है । यदि नाभी मध्‍य में न होकर कुछ नीचे को है तो ऐसे व्‍यक्तियों को पेट के नीचे पाये जाने वाले अंगों से सम्‍बन्धित बीमारीयॉ अधिक होती है । ऊपर की तरुफ है तो उसे पेट के उपर पाये जाने वाले अंगों से सम्‍बन्धित बीमारीयॉ होती है ।
यदि नाभी की स्थिति बिलकुल मध्‍य में न होकर दायी तरुफ होती है तो ऐसे मरीजो को पेट पर पाये जाने वाले दॉये अंग से सम्‍बन्धित रोग हो सकता है ठीक इसी प्रकार यदि बॉये तरुफ है तो बॉये अंग से सम्‍बन्धित बीमारीयॉ हो सकती है ।
उपरोक्‍त स्थिति का अध्‍ययन पेट पर पाये जाने वाले वृत के अध्‍ययन से किया जा सकता है का आकार
(ब) नाभी की बनावट :-हर व्‍यक्तियों की नाभी की बनावट अलग अलग होती है यहॉ तक की जुडवा संतानों के शरीर की बनावट भले एक सी हो परन्‍तु उनके नाभी का आकार प्रकार व बनावट अलग अलग होगी ,ठीक उसी प्रकार से जैसे हाथों की रेखाये हर व्‍यक्तियों की अलग अलग होती है । नाभी के आकार प्रकार एंव बनावट से नाभी चिकित्‍सक रोग की पहचान करते है ।
यदि नाभी ऊपर को डण्‍टल की तरह से उठी हुई है तो ऐसे व्‍यक्तियों को गैसे अपच आदि की शिकायत हो सकती है । अन्‍दर को धॅसी हुई गहरी नाभी इस प्रकार के रोगी को स्‍वस्‍थ्‍य माना जाता है परन्‍त उक्‍त दोना बनावट के साथ अन्‍य स्थितियों जैसे धारीयों की बनावट एंव नाभी के आकार को भी आधार माना जाता है ।
(स)नाभी धारीयॉ या रेखा:- इसमें नाभी धारीयॉ एंव नाभी बनावट मुख्‍य रूप से है जैसे नाभी की बनावट में यदि नाभी का आकार जिस ओर होता है उस तरुफ के अंग रोगग्रस्‍त होते है इसी प्रकार नाभी धारीयॉ की स्थिति का भी पता लगाया जाता है जैसे नाभी धारी या जिसे नाभी रेखा भी कहते है । यदि नाभी धारी की बनावट या स्थिति जिस ओर इसारा करती है उसी तरुफ के अंगों से सम्‍बन्धित रोग होता है । यह बडी ही सरल विधि है । परन्‍तु इसे बारीकी से समक्षना चाहिये तभी रोग का परिक्षण का परिणाम उचित होगा । इस परिक्षण हेतु नाभी वृत परिक्षण चार्ट को देखिये ।
(द) नाभी धारीयों का रंग :- नाभी धारीयों के मध्‍य रंग व गंध पाई जाती है , दक्ष नाभी चिकित्‍सा रोगों की पहचान नाभी धारीयों के रंग व गंध से आसानी से कर लेता था । नाभी के अन्‍दर से गंध का रोग पहचान में बडा महत्‍व है चूंकि जैसा कि आप सभी इस बात को अच्‍छी तरह से जानते है कि नाभी ही एक ऐसा अंग है जिसमें शरीर से निकलने वाला पसीना या व्‍यर्थ पदार्थ आसानी से कई कई दिनों तक छिपे रहते है यहॉ तक की कई व्‍यक्तियों की नाभी में जो पदार्थ छिपे रहते है वह उनके जन्‍म के समय से ही छिपे रहते है फिर शरीर के तापमान आदि की वहज से उसमें ऐसे वेक्‍टेरिया पनपने लगते है जो शरीर के रक्षक होते है इन वेक्‍टेरिया से शरीर को नुकसान नही होता ।
                              
      नाभी की बनावट हिलमोजी साईस
   Helum हिलम याने गढठा या छिद्र इसे hilus भी कहते है ।
 Ridge रिजिस रिजिस या धारीयॉ जो शरीर में प्राय: हाथ पैरों पर पाई जाती है परन्‍तु यह शरीर के अन्‍य भागों में भी पाई जाती है । जिस प्रकार किसी भी मनुष्‍य के हाथ की धारीयॉ एक दूसरे से नही मिलती ठीक उसी प्रकार नाभी धारीयॉ भी किसी भी व्‍यक्यों में एक सी नही होती ।
 Helix हिलेक्‍स इसकी बनावट पेचदार या धुमती हुई आकृति की होती है । Apex शीर्ष अपेक्‍स की बनावट नोक के समान या शीर्ष की तरह से उठी हुई होती है । इस तरह की नाभी  डण्‍टल की तरह ऊपर को निकली हुई होती है
Umbo गाठ यह प्राय: गाठों की तरह की अकृति की होती है । इस प्रकार की नाभी गहरी न हो कर उपर निकली हुई गाठ की तरह से दिखती है 
Nodeगाठ यह भी  Umbo की तरह फूला हुआ भाग होता है ।
Arch धूमती हुई आकृति शरीर का कोई भी गाठ या छेद्र प्राय: जो धुमाव लिये हुऐ आकृति का होता है उसे आर्च कहते है ।
Deep डीप या गहराई ऐसी नाभी जो किसी गडडे की तरह से गहरी होती है उसे डीप या गहरी नाभी कहते है ।
आई शेप( ऑखों की आकृति ):- इस प्रकार की नाभी अधिक गहरी नही होती परन्‍तु इसकी आकृति को ध्‍यान से देखने पर ऐसा लगता है जैसे ऑखों का आकार हो । इस प्रकार ऑखों की अकृति वाली नाभी भी दो प्रकार की होती है । एक में ऑखों के आकार के अन्‍दर धारीयॉ स्‍पष्‍ट रूप से दिखलाई देती है तो दूसरे प्रकार की नाभी में धारीयॉ नही दिखती इस प्रकार की नाभी गहरी होती है ।


सुलभ नाभी उपचार


                           सुलभ नाभी उपचार
 चिकित्‍सा जैसा पुनित कार्य आज एक व्‍यवसाय बन चुका है इसके लिये हम मरीज स्‍वयम जबाबदार है क्‍योकि जब तक हमें चिकित्‍सकों द्वारा परिक्षण व उपचार के बडे बडे परचे नही पकडा दिये जाते हमे विश्‍वास ही नही होता । आज से पहले भी कई उपचार विधियॉ प्रचलन में थी परन्‍तु मुख्‍य धारा से जुडी चिकित्‍सा पद्धतियों के वार्चस्‍व की वजह से सस्‍ती सुलभ उपचार विधियॉ लुप्‍त होती चली गयी और बची खुची कसर इस चिकित्‍सा पद्धतियों के जानकारों ने इसे अवैज्ञानिक एंव तर्कहीन कह कर पूरी कर दी । इसके पीछे भी कई कारण एंव हमारी अपनी मानसिकता भी जबाबदार रही है । यदि आप से कोई कहे की इस बिमारी का उपचार बिना किसी दबादारू के हो जायेगा तो आप विश्‍वास नही करेगे क्‍योकि आपको तो बडे बडे डॉ0 के बडे बडे परिक्षणों एंव उपचार की लत लग चुकी है । चलों हम मान लेते है कि बडे बडे डॉ0 के उपचार से आप ठीक हो जायेगे परन्‍तु कभी कभी बडे से बडा डॉ0 भी जिस बीमारी का उपचार नही कर सकते उसे परम्‍परागत उपचारकर्ता आसानी से ठीक कर देते है इस प्रकार के कई उदाहरण भरे पडे है । मुक्षे अच्‍छी तरह से ज्ञात है हमारे पडोस में एक महिला के पेट में र्दद रहता था उसका उपचार बडे से बडे डॉ0 द्वारा किया जा रहा था परन्‍तु उसे किसी भी प्रकार का आराम नही मिल रहा था । चूंकि मरीज एक मध्‍यम वर्गीय परिवार से था उपचार  मे अत्‍याधिक खर्च होने की वजह से घर का खर्च चलाना मुस्‍किल हो गया था इसलिये उन्‍होने उपचार कराना बन्‍द कर शासकीय चिकित्‍सालय में जो दबाये मिलती थी उसी पर निर्भर रहना शुरू कर दिया था इस उपचार से उसे कुछ तो राहत मिल जाती थी परन्‍तु जैसे ही दबाओं का असर कम होने लगता था र्दद पुन: चालू हो जाता था । एक दिन वह महिला उसी महिला के पास गई जिसने उपचार से पूर्व कहॉ था कि हम आप के पेट के र्दद को नाभी के स्‍पंदन को यथास्‍थान बैठा कर ठीक कर देगे और आप की बीमारी ठीक हो जायेगी । परन्‍तु उस महिला के पति ने मना कर दिया था एंव बडी बडी चिकित्‍सालयों में उसका उपचार चला परन्‍तु किसी प्रकार का लाभ न होने पर एंव आर्थिक‍ि रूप से परेशान होने के बाद उसे उस महिला की याद आई तो उसने सोचा कि चलों इसे ही दिखला दिया जाये । उस बूढी महिला ने उसकी नाभी के स्‍पंदन को देखा जो टली हुई थी महिला ने उसके पेट पर तेल लगा कर पेट का मिसाज कर नाभी स्‍पंदन को यथास्‍थान बैठालने का प्रयास किया परन्‍तु रोग पुराना होने के कारण नाभी स्‍पंदन अपनी जगह पर ठीक से बैठ नही रही थी इसलिये उसने नाभी पर एक जलता हुआ दिया रखा फिर उपर से खाली लोटे को रखा इससे लोटे पर वेक्‍युम के कारण लोटा पेट पर चिपक गया एंव खिसकी हुई नाभी अपनी जगह पर आ गयी । इस उपचार से महिला के पेट का र्दद कम तो हो गया परन्‍तु पूरी तरह से ठीक नही हुआ था इसलिये उसने कच्‍चे छोटे छोटे सात नीबूओं को फ्रिजर में रखवाया एंव दूसरे दिन एक एक नीबूओं को सीधे लेट कर नाभी पर रखते जाने की सलाह दी एंव यह उपचार नियमित रूप से सात दिनों तक करने से वह महिला पूरी तरह से रोगमुक्‍त हो गयी । अब आप ही विचार किजिये यदि उस महिला ने पहले या बडे बडे डॉ0 के उपचार के साथ ही यह उपचार करा लिया होता तो वह इतना परेशान न होती । अब इसी उपचार को वैज्ञानिक तरीके से देखा जाये तो यहॉ पर उस महिला के पेट के अंतरिक अंग सुसप्‍तावस्‍था में आ गये थे चूंकि किसी भी प्रकार की बीमारी के पूर्व शरीर के अंतरिक अंग पहले सुसप्‍तावस्‍था में आते है जो अपना सामान्‍य कार्य या तो कम करते है या फिर कभी कभी सामान्‍य अवस्‍था की अपेक्षा तीब्रता से करने लगते है दोनो अवस्‍थाओं में रोग की उत्‍पति होती है । प्राकृतिक रूप से किसी भी प्रकार के रोग होने पर शरीर स्‍वयम उसके उपचार की प्राकृतिक व्‍यवस्‍था करता है , जिस जगह पर किसी भी प्रकार की बीमारी होती है शरीर पहले वहॉ की समस्‍त आवश्‍यकताओं की पूर्ति बढा देता है ठीक उसी प्रकार जैसे किसी शहर में कोई अपदा या अनहोनी की स्थिति में शासन उस शहर को सवेदनशील घोषित कर समस्‍त आवष्‍यकताओं की पूर्ति करता है ठीक इसी प्रकार शरीर के किसी हिस्‍से में रोग होने पर शरीर अपनी तरफ से तो प्रयास करता है । परन्‍तु इस प्रक्रिया में पेट के मिसाज नाभी स्‍पंदन को यथास्‍थान लाने एंव वर्फ की तरह से ठंडे नीबूओ को नाभी पर लगातार रखने से शरीर के उस हिस्‍से में एक असमान्‍य घटना होती है एंव शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली इसके लिये सर्धष हेतु सजग हो कर प्रयास करने लगते है एंव शरीर समस्‍त आवश्‍यक पूर्तियॉ करने लगता है इसका सुखद परिणाम यह होता है कि उस रोगग्रस्‍त अंग को स्‍वस्‍थ्‍य होने के लिये समस्‍त आवश्‍यकताओं की पूर्तियॉ यथासमय हो जाती है एंव एक बार सुस्‍पतावस्‍था के अंग संचालित होते ही अपना यथेष्‍ट कार्य करने लगते है एंव रोग से मुक्‍त हो जाते है । नीबूओं का नाभी के ऊपर कर उपचार करने की विधि चीन व जापान की प्रकृतिक उपचार विधि है इससे पेट र्दद की समस्‍त प्रकार की बीमारीयों का एंव बॉझपन का उपचार सदियों से होता आया है एंव इसके बडे ही आर्श्‍चजनक एंव सुखद परिणाम मिले है ।

शनिवार, 21 अप्रैल 2018

इलैट्रो होम्‍योपैथिक का नि:शुल्‍क कोर्स घर बैठे करिये


        इलैट्रो होम्‍योपैथिक का नि:शुल्‍क कोर्स घर बैठे करिये
  इलैक्‍ट्रो होम्‍योपैथिक में केवल 38 औषधियॉ है , इन 38 औषधियों से सम्‍पूर्ण बीमारीयों कर उपचार किया जा सकता है । यदि आप घर बैठे इस कोर्स का अध्‍ययन करना चाहते है तो आप इस ई मेल एड्रेस battely2@gmail.com पर अपनी पूरी जानकारी भर कर भेजिये । आप को इस कोर्स की विषय सामग्री किस्‍तों में आप तक भेजी जाती रहेगी । जितनी पाठय सामग्री आप को भेजी जाती है उसमें पास होने पर ही आगे की पाठय सामग्री आप को भेजी जायेगी । सम्‍पूर्ण भेजी गये कोर्स में उत्‍तीर्ण होने के पश्‍चात आप की वार्षिक परिक्षा होगी उसमें पास होने पर आप को प्रमाण पत्र प्रदान किया जायेगा । भेजी गई विषय की परिक्षा के उत्‍तर  आप को हमारे ई मेल एड्रेस पर भेजना होगा , एंव आप का पंजियन इलैक्‍ट्रो होम्‍योपैथिक बोर्ड से कराया जायेगा ।      
    पत्राचार माध्‍यम से हमारे यहॉ और भी कई प्रकार के नि:शुल्‍क कोर्सो का संचालन किया जा रहा है । जैसे
1-चिकित्‍सा सम्‍बन्धित पत्राचार कोर्स :- एक्‍युपंचर ,नेवल एक्‍युपंचर ,नाभी स्‍पंदन से रोगों की पहचान एंव निदान ,ची नी शॉग उपचार, न्‍यूरोथैरापी ,एक्‍युप्रेशर , आईरिस साईस , होम्‍योपंचर चिकित्‍सा ,इलैक्‍ट्रो होम्‍योपैथिक ,
2-स्‍वारोजगार सम्‍बन्धित पत्राचार कोर्स:- ब्‍यूटी पार्लर,ब्‍यूटी क्‍लीनिक ,टैटू आर्ट ,नी शेप पार्लर, पिर्यसिंग पार्लर, बी गम थैरापी ,कपिंग थैरापी ,
 इसकी जानकारीयॉ आप हमारे इन साईस पर प्राप्‍त कर सकते है ।
battely2.blogspot.com
http://beautyclinict.blogspot.in/
xxjeent.blogspot.com
http://krishnsinghchandel.blogspot.in

इलै0हो0 से नाभी को गहरा आकृषक बनाना


                      इलै0हो0 से नाभी को गहरा आकृषक बनाना
आज के इस आधुनिक फैशनपरास्‍ती युग में खॉस कर महिलाओं में नाभी र्दशना वस्‍त्रों के पहनने का फैशन तेजी से बडा है । हर युवा महिलाये चाहती है कि उनकी नाभी गहरी आकृषक हो , परन्‍तु सभी महिलाओं की नाभी गहरी आकृषक नही होती कई महिलाओं की नाभी किसी जख्‍म की तरह से अनाकृषक होती है वही कई महिलाओं की नाभी गहरी न होकर सकरी एंव आकार में छोटी होती है इसकी वहज से वे नाभी र्दशना वस्‍त्र पहनने से वंचित रह जाती है । नाभी को गहरा आकृषक बनाने के लिये वे प्‍लास्टिक सर्जरी का सहारा लेती है परन्‍तु प्‍लास्टिक सर्जरी सभी के वश की बात नही है । ब्‍युटी क्‍लीनिक व नीशेप क्‍लीनिक में नेवल कार्क , नेवल स्प्रिंग आदि की सहायता से भी नाभी को गहरा आकृषक बनाया जाता है । किसी भी चिकित्‍सा पद्धति में अभी तक तो दबाओं की सहायता से नाभी को गहरा आकृषक बनाने के विषय में जानकारी नही है । परन्‍तु इलैक्‍ट्रो होम्‍योपैथिक में एक घटना ने इस पर प्रकाश डाला । एक युवा लडकी जिसकी उम्र लगभग बीस वर्ष के आस पास होगी उसे पेट से सम्‍बन्धित कुछ परेशानीयॉ थी उसे एस-10 सी-10 जैसी दबाये दी गयी परन्‍तु लाभ पूरी तरह से नही हो रहा था इसलिये उसकी बीमारी के हिसाब से सी-15 दबा का चुनाव किया गया इस दबा को नियमित कुछ दिनों तक दिया जाता रहा इसी मध्‍य हमने देखा कि उस लडकी की नाभी जो सकरी एंव कम गहरी थी । सी-15 दबा के नियमित दिये जाने से काफी गहरी एंव आकार में चौडी होने लगी थी । इसे देख हमारे ब्‍युटी क्‍लीनिक के स्‍थानीय समन्‍वयक डॉ0 अनिता भटेले ने कहॉ कि यह आर्श्‍चय है कि सी-15 दबा के प्रयोग से इस लडकी की सकरी कम गहरी नाभी गहरी आकृषक हो गयी । इसके बाद हम लोगों ने इसका प्रचार प्रसार इलैक्‍ट्रो होम्‍योपैथिक चिकित्‍सकों में किया इसका परिणाम यह हुआ कि जितने भी लोगों ने इस दबा का प्रयोग नियमित रूप से लम्‍बे समय तक किया उन्‍हे इसके आशानुरूप परिणाम मिले । चूंकि नी शेप क्‍लीनिक में नाभी को गहरा आकृषक बनाने हेतु कई महिलाये आती है । हमने नीशेप क्‍लीनिक व पार्लस में इस दबा से नाभी को गहरा करने की दबा सी-15 को नियमित खिलाने एंव लगाने के बारे में बतलाया उन्‍होने इसका प्रयोग किया एंव परिणाम काफी उत्‍साह जनक रहे । कुछ चिकित्‍सकों का कहना है कि सी-15 दबा नाभी पर कार्य करती है परन्‍तु यदि इसके साथ बी ई अर्थात ब्‍लू इलैक्‍ट्रीसिटी का प्रयोग किया जाये तो परिणाम जल्‍दी मिल सकते है उनका कहना है कि ब्‍लू इलैक्‍ट्रीसिटी से नेवल की आट्री एंव बेन सुकड जाती है त्‍वचा व उस जगह के मसल्‍स सुकडते है एंव सी-15 नाभी एंव नाभी के आस पास की त्‍वचा मसल्‍स पर कार्य करती है इससे इन दोनो दबाओं के प्रयोग से नाभी गहरी आकार में चौडी आकृषक हो सकती है इन दोनो दबाओं को मुंह से तीन बार खिलाये एंव नाभी पर इसे नियमित लगाना चाहिये ।
इलैक्‍ट्रो होम्‍योपैथिक चिकित्‍सक से अनुरोध है कि वे इस प्रयोग को अवश्‍य अजमाये ,जैसाकि सभी जानते है कि एक समय मस्‍सों के लिये होम्‍योपैथिक में थूजा दबा ने जन सामान्‍य को होम्‍योपैथिक से परिचित करा‍ दिया था । यदि यह प्रयोग कामयाब होता है तो इलैक्‍ट्रो होम्‍योपैथिक से जन सामान्‍य परिचित होगी  एंव महिलाये जो अपनी नाभी को आकृषक गहरा बनाना चाहती है वे आप के पास इसके उपचार के लिये आयेगी ।
                                                डॉ0 जीनत खान
                                             नीशेप एक्‍सपर्ट एंव एम0डी इलै0   





कैंसर हेतु इलैक्‍ट्रोहोम्‍योपैथिक औषधियॉ


रिपेटरी विभिन्‍न अंगों के कैंसर हेतु इलैक्‍ट्रोहोम्‍योपैथिक औषधियॉ  
क्र0
रोग का नाम
औषधियॉ
1
मुंह का कैंसर
S-1,C-1, L-1, Ven-1
2
ग्रास नलिका का कैंसर
S-1,C-1, A-2, Ven-1
3
पेट का कैंसर
S-1,C-15, A-3, L-1
4
लीवर का कैंसर
S-2,C-10, A-2, F-1
5
पेनक्रियास का कैंसर
S-1,C-1, L-1, F-1
6
इंटेस्‍टाईन का कैंसर
S-10,C-10, L-1, A-2
7
त्‍वचा का कैंसर
S-3,C-3, Ven-1, F-1
8
हडडी का कैंसर
A-1,C-4, Ven-1, C-3
9
किडनी का कैंसर
A-1,C-6, Ven-1, S-6,F-1
10
लॅग का कैंसर
P-2,P-4,S-1,C-5,F-1
11
यूरीनरी ब्‍लेडर का कैंसर
S-2,C-1,C-17,A-2,Ven-1
12
प्रोस्‍टेट का कैंसर
S-1,Ven-1,L-1,C-1
13
यूटरस का कैंसर
C-1,Ven-1,A-2,S-2
14
स्‍तन का कैंसर
C-1,S-3,C-5,L-1,A-2
15
ओवरी का कैंसर
C-1,S-2,,L-1,Ven-1
16
पेनिस का कैंसर
C-5,S-3,Ven-1,L1
17
गालब्‍लेडर का कैंसर
S-2,C-2,F-1,C-10,A-2



आवश्‍यक निर्देश


                    आवश्‍यक निर्देश
  नि:शुल्‍क कोर्स करने वाले सभी छात्रों को सूचित किया जाता है कि हमारे द्वारा चलाये जाने वाले नि:शुल्‍क कोर्स आप के ज्ञानवर्धन हेतु संचालित है । यदि आप किसी कौन्‍सिल या पंजियन बोर्ड से इन कोर्स की परिक्षा आदि देते है तो हमे किसी प्रकार की अपत्ति नही है , आप जिस संस्‍थान से चाहे इसका पंजियन या परिक्षा आदि दे सकते है । हमारे कोर्स को स्‍थानीय समन्‍वयकों द्वारा स्‍थानीय भाषाओं में ट्रान्‍सलेट किया है एंव कुछ लेखकों छात्रों द्वारा इन्‍हे पाठयक्रम के हिसाब से तैयार किया है ।
  नि:शुल्‍क कोर्स दो चरणों में पूरे किये जाते है पहले चरण में पाठय सामग्रीयॉ छात्र के मेल एड्रेस पर भेजी जाती है जो किस्‍तो में प्रत्‍येक भेजी गयी किस्‍तों की परिक्षा पास करने पर आगे की पाठय सामग्री भेजी जाती है । इस प्रकार से कोर्स की अवधि लगभग एक वर्ष है । द्वितिय चरण में प्रेक्‍टीकल प्रशिक्षण दिया जाता है । इस  प्रेक्टिक प्रशिक्षण में वही छात्र प्रशिक्षण हेतु योग्‍य होते है जिन्‍होने सौद्धान्तिक विषयों की वार्षिक परिक्षा उत्‍तीर्ण की हो , जिस नगर मे 25 छात्र होते है वहॉ पर यह नि:शुल्‍क प्रशिक्षण कैम्‍प आयोजित किया जाता है । जहॉ कही 25 से कम छात्र होते है वहॉ के छात्रों को आस पास के नगर में प्रेक्टिकल प्रशिक्षण हेतु आमंत्रित किया जाता है ।
 नि:शुल्‍क कोर्स हेतु छात्र को यह प्रयास करना चाहिये कि वह अपने नगर में इस कोर्स हेतु कम से कम 25 छात्रों को इसमें प्रवेश दिलाने हेतु प्रोत्‍साहित करे ताकि उस नगर में प्रेक्टिकल प्रशिक्षण की व्‍यवस्‍था की जा सके । इस प्रकार समूह बनाने से एक लाभ यह भी होता है कभी कभी कुछ छात्रों को हमारे द्वारा भेजे गये मेल नही मिलते यदि वे आप में एक दूसरे के सम्‍पर्क में होगे तो यह समस्‍या नही होगी साथ ही समूह में रहने से एक तो नि:शुल्‍क प्रशिक्षण का लाभ अपने ही नगर में उठाया जा सकता है दुसरा इसके कई विषय ऐसे है जिनका प्रेक्टिकल छात्र स्‍वय एक दूसरे पर कर सकते है ।
   नि:शुल्‍क कोर्स के प्रेक्‍टिकल के कुछ वीडियों अपलोड है उसका भी लाभ उठाया जा सकता है इससे आपको प्रेक्टिकल ज्ञान हो जायेगा ।
   संस्‍था की बैठक में यह निर्णय लिया गया है कि प्रत्‍येक छात्र को कम से कम तीन छात्रों को इस नि:शुल्‍क कोर्स में प्रवेश दिलाने पर ही उन्‍हे इस नि:शुल्‍क कोर्स में प्रवेश दिया जायेगा । इसका प्रमुख कारण यह है कि कई नगरों में मात्र एक दो छात्र प्रवेश लेकर अध्‍ययन तो कर लेते है परन्‍तु उनकी सख्‍या 25 छात्रों से कम होने पर वे प्रेक्टिकल प्रशिक्षण से अनभिज्ञ रह जाते है इससे हमारे द्वारा संचालित कोर्स का टारगेट पूरा नही होता एंव छात्र की महनत भी बेकार चली जाती है ।

ब्‍यूटी क्‍लीनिक सेलेबरस


                       ब्‍यूटी क्‍लीनिक सेलेबरस
1-ब्‍यूटी क्‍लीनिक क्‍या है , ब्‍युटी पार्लर एंव ब्‍यूटी क्‍लीनिक में अंतर ?
2-बी गम थैरापी ,शरीर से अनावश्‍यक बालों को निकालना ,वेक्‍स ,हेयर रिमूबर   ,थ्रेडिंग,इलैक्‍ट्रोलाईसिस
 नैनसी डेकोरियस विधि से बालों को निकालना , त्‍वचा से अनावश्‍यक बालों को बिना र्दद के निकालने की विधि , त्‍वचा को शून्‍य कर शरीर से अनावश्‍यक बालों को निकालना ,बालों की ग्रोथ कम करने की विधि ,बी गम से गर्भणी रेखाओं (स्‍ट्रेचमार्क ) के निशानों को मिटाना ,वी गम मिसाज थैरापी ।
3-कपिंग उपचार या वेक्‍युम थैरापी ,परम्‍परागत कपिंग,आधुनिक कपिंग ,साधारण कपिंग ,डबल कपिंग यंत्र , नेवल शेपर कपिंग यंत्र , विभिन्‍न अंगों हेतु प्रयोग किये जाने वाले कपिंग यंत्र ,अविकसित अंगों को विकसित करने की विधि ।
4-नाभी स्‍पंदन व परिक्षण से रोग निदान एंव सौन्‍द्धर्य समस्‍याओं का उपचार ,नेवल कपिंग से सौन्‍द्धर्य समस्‍याओं का निदान ,नाभी धारीयों एंव नाभी के आकार प्रकार से रोग व सौन्‍र्द्धर्य समस्‍याओं को कैसे पहचाना जाता है तथा इससे किस प्रकार इन समस्‍याओं का उपचार किया जाता है ।   
5- ब्‍युटी प्रेशर क्‍लीनिक
6- ब्‍युटी होम्‍योपंचर उपचार, ब्‍युटी होम्‍योपंचार में प्रयुक्‍त होने वाली निडिल का वर्णन  
7-पंचरिग पाईट का निर्धारण
8-लैर्न्‍ड मार्क विधि क्‍या है इसका विस्‍तृत अध्‍ययन , प्रयौगिक अध्‍ययन ,पंचरिग पाईट निधारण की एनाटामिकल विधि
9-एन और यू का निर्धारण एंव इसका महत्‍व क्‍या है । इसका उपयोग एक्‍युपंचर एंव होम्‍योपंचर उपचार में कैसे किया जाता है  
10-स्‍टोमक (एब्‍डोमिन ) को चार समान भागों में विभाजित करना एंव इस पर चार वृत बनाना तथा इन वृत को आठ एंव सोलह भागों में विभाजित करना उक्‍त प्रयौगिक अध्‍ययन अलग अलग मरीजों पर करते हुऐ इसके फोटोग्राफ तैयार करे ।
11-बारह मैरीडियान का वर्णन ,मरीज पर बारह मेरिडियान बनाने का प्रयोगात्‍मक अध्‍ययन  
12- पंचरिग बिन्‍दुओं का निर्धारण किस प्रकार किया जाता है ।
13-एब्‍डोमिन या पेट पर पाये जाने वाले शरीर के प्रतिनिधि क्षेत्रों का निर्धारण
14- पंचरिंग करने की विधि ,एक्‍युपंचर विधि ,होम्‍योपंचर विधि
15- नेवल एक्‍युपंचर क्‍या है ,नेवल एक्‍युपंचर से सौन्‍द्धर्य समस्‍याओं का निदान , नेवल एक्‍युपंचर में प्रयुक्‍त होने वाली निडिल का परिचय
16-ब्‍युटी पंचर में प्रयुक्‍त होने वाले दबाओं का वर्णन
17-मोक्‍सा उपचार, मोक्‍सा उपचार में प्रयोग यंत्र व सामग्रीयों का अध्‍ययन  
18-बाडी आर्ट या टैटू आर्ट क्‍या है आधुनिक जीवन शैली में इसका महत्‍व टैटू में प्रयोग किये जाने वाले यंत्रों का वर्णन ,इंक ,कलर इंक ,
19-ओबेसिटी या (मोटापा), शरीर के अनावश्‍यक मोटापे को कम करने की विधियों का वर्णन कीजिये ।  
20- नी शेप क्‍लीनिक , आधुनिक फैशन में नीशेप क्‍लीनिक का क्‍या महत्‍व है , नीशेप से नेवल को किस प्रकार से आकार दिया जाता है । नेवल कार्क ,नेवल स्प्रिग तथा नेवल पटटीका का वर्णन एंव इसका प्रयौगिक अध्‍ययन
21- आधुनिक फैशन
22-साडी, हिन्‍दुस्‍थान में पहने जाने वाली विभिन्‍न किस्‍म की साडी के पहनाने का वर्णन एंव इसका प्रयौगिक अध्‍ययन कीजिये ।  
23-पिर्यसिंग क्‍या है ,पिर्यसिंग आर्ट , नोज,इयर ,नेवल ,एब्‍डोमिन,लिपस, पिर्यसिग
24-ची नी शॉग उपचार ,ची नी शॉग उपचार से सौन्‍द्धर्य समस्‍याओं का निदान ,चीनी शॉग स्‍ट्रोक उपचार , ब्‍यूटी होम्‍योपंचर, ची नी शॉग से पेट के अनावश्‍यक मोटापा को कम करना , ची नी शॉग से बॉडी की सर्विसिंग , ची नी शॉग से रोगों की पहचान किस प्रकार से की जाती है
25- मेगनेट थैरापी , एक्‍युप्रेशर थैरापी ,सुजाक थैरापी ,प्राकृतिक उपचार विधियों से सौन्‍द्धर्य समस्‍याओं का निदान
26-ब्‍युटी क्‍लीनिक में स्‍वारोजगार की संभावना क्‍या है । इसके नि:शुल्‍क व पत्राचार के अध्‍ययन
  पर प्रकाश डालते हुऐ इसके महत्‍व को बतलाये । ई मेल सेवा ,व अल्‍पावधि प्रेक्टिकल प्रशिक्षण या इसके अलग अलग ब्रॉच का अध्‍ययन अपनी सुविधानुसार घर बैठे अध्‍ययन करने से इस व्‍यवसाय पर क्‍या प्रभाव पडेगा । ब्‍युटी क्‍लीनिक का नेटवर्क बिना किसी प्रचार प्रसार या विज्ञापन के कैसे हो जाता है इसका अध्‍ययन व अभिमत
27- विषयों के अनुरूप समस्‍त सैद्धान्‍तिक (थैवरिकल) अध्‍ययन के पश्‍चात इसका प्रयौगिक (प्रेक्टिकल) अध्‍ययन आवश्‍यक है परन्‍तु इसके कुछ विषय ऐसे है जिनका अध्‍ययन कर इसका प्रेक्टिकल किया जा सकता है । एक्‍युपंचर या शरीर में सूई चुभाने का प्रयौगिक ज्ञान आप अपने आस पास के एक्‍युपंचर चिकित्‍सक से प्राप्‍त कर सकते है या जिन नगरों में बीस से पच्‍चीस छात्र होगे वहॉ पर नि:शुल्‍क तीन दिवसी प्रशिक्षण की व्‍यवस्‍था की जा सकती है परन्‍तु जहॉ पर छात्रों की सॉख्‍या इससे कम होगी उन्‍हे जहॉ कही भी नि:शुल्‍क प्रशिक्षण शिविर लगाया जायेगा वहॉ पर उन्‍हे आना होगा । हमारे समन्‍वयक प्राय: सभी नगरों में है आप उनसे भी प्रेक्टिकल प्रशिक्षण प्राप्‍त कर उनसे इसका प्रमाण पत्र लेकर हमारे यहॉ भेज सकते है ताकि आप को थैवरी एक्‍जाम में बैठाला जा सके । अन्‍यथा प्रेक्टिकल प्रशिक्षण के बाद ही आप फाईनल एक्‍जाम में बैठ सकेगे ।